"Shri Guru Anand Goshala" करुणा भरे ह्रुदय के साथ बढाएं सहयोग का हाथ,      आधारस्‍तंभ - ५,००,०००,      गौमाताकी आधुनिक शेड उभारणी के लिये   अ) ३६ गौमाताकी आधुनिक शेड के लिये - ३,५१,००१,      गौशाला में जानवरोंको पिने के पाणी के लिये - ५१,००१,      एक गौमाताकी आजीवन घास - ५१,००१,      एक ट्रक सुखा घास - १५,००१,      एक ट्रक हरा घास - १८,००१,      एक गौमाता का एक वर्षके पालकत्‍व के लिए - ११,००१,      एक गौमाता का ६ महिने पालकत्‍व के लिए - ६,५५१,      एक गौमाता का ३ महिने पालकत्‍व के लिए - ४,५०१,      एक गौमाता छुडानेके लिए - २,५०१,      एक सालमें १ दिनके लिए चारा/पानी - ५,५५१,      एक सालमें १ दिनकी मिती के लिए - २,१००,      एक दिन कबुतर चिमणी आदि का दानापाणी - ५११,     
Trakjain Jain Community
 
मंगल पाठ (Audio)
मंगल पाठ (Video)
लोगस्स का पाठ
आनंद गुरवें नमः (जप)
 
भक्तामर
कल्याण मन्दिर
सामायिक लेने कि विधी
सामायिक पारने कि विधी
पच्चिस बोल
स्तोत्र
उपासना(प्रार्थना)
गुरुदेव नित्य नियम
 
WELCOME Website Help / Demo
गुरुदेव नित्य नियम » तीर्थंकर स्तोत्र का पाठ
1 2 3
तीर्थंकर स्तोत्र का पाठ

आदौ नेमिजिनं नौमि , संभवं सुविधिं तथा |
धर्मनाथं महादेवं, शांती शांतिकरं सदा | | १ | |
अनंता सुव्रतं भक्त्या, नमिनाथं जिनोत्तम |
अजितं जित कदर्पं, चन्द्रं चन्द्र समप्रभं | | २ | |
आदिनाथं तथादेवं, सुपार्श्व विमलं जिनं |
मल्लिनाथं गुणोपेतं , धनुषां पञ्च विंशति |
अरनाथं महावीरं, सुमतिंच जगद् गुरुं |
श्री पद्मप्रभ नामानं ,वासुपूज्यं सुरैर्नतं | |3 | |
शीतलं शीतलं लोके, श्रेयांसं श्रेयसे सदा |
कुंथुनाथं च वामेयं , विश्वाभिनंदनं विभुं | |४ | |
जीनानां नामभिर्बद्ध: , पञ्चषष्टि समुद्भव: |
यंत्रोयं राजते यत्र, तत्र सौख्यं निरंतर | | ६ | |
यस्मिन गृहे महाभक्त्या, यंत्रोयं पूज्यते बुधे : |
भूतप्रेत पिशाचादेर, भयं तत्र न विद्यते | | ७ | |
सकलगुण निधानं यंत्रमेनं विशुद्धं ,
हृदयकमल कोषे,धीमतां धेयरुपम |
जयतिलकगुरो: श्री सुरिराजस्य शिष्यो ,
वदति सुखनिधानं मोक्षलक्ष्मी निवासम | | ८ | |
ईति श्री तीर्थंकर स्तोत्र सम्पूर्णं